Chintiyon Ka Shor

Three people find themselves hovering, hoping, and coping under a flyover of a noisy, rainy, polluted, restless city. A city of possibilities, A city of impossibilities? Belonging to three different socio-economic backgrounds, the characters unravel to face their current crossroads?…

रास काल मंच की नयी प्रस्तुति

मल्टी आर्ट कल्चरल सैंटर अमृता प्रीतम, सहादत हसन मंटो, इस्मत चुगताई ….तीनों महान लेखक आज एक ही मंच पर…अभिनेताओ के माध्यम से आज देखिये एक शाम कहानियों के नाम ….रास काल मंच की नयी प्रस्तुति आप दर्शकों के नाम ….भूलिएगा…